जामताड़ा में बैंड प्रतियोगिता में कस्तूरबा विद्यालय फतेहपुर की बालिका टीम बैंड में प्रथम स्थान द्वितीय स्थान नाला को।

0
20231110 141950
Spread the love

जमतारा: 10 नवंबर दिन शुक्रवार को आउटडोर स्टेडियम जामताड़ा में जामताड़ा जिला से बालिका विद्यालयों के बीच बैंड प्रतियोगिता कराई गई जिसमें जामताड़ा जिले के सभी प्रखंडों की कस्तूरबा बालिका विद्यालय की बैंड इसमें प्रतिभागी बने। सर्वप्रथम जामताड़ा कस्तूरबा विद्यालय की बालिका टीम ने अपना बैंड परेड प्रदर्शन किया, जामताड़ा के पश्चात नाला कर्माटांड़ कुंडहित फतेहपुर और नारायणपुर की बैंड ने अपना परेड प्रदर्शन किया। इन सभी प्रखंडों में फतेहपुर कस्तूरबा बालिका विद्यालय की बैंड लोगों के दिलों के साथ-साथ तालियां भी बटोरने में सफल रही उसके कमांडर ने तीन तरह के परेड दिखाकर निर्णायक मंडली के साथ-साथ दर्शकों की भी तालियां बटोरने में कामयाबी पाई ।हर तरीके से हर शैली से उन्होंने परेड दिखाकर बैंड परेड से प्रथम स्थान लाने में कामयाब रही।

निर्णायक कमेटी में जिले के प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षक और परिचारी ने निभाई अहम भूमिका।

जामताड़ा जिले के पांच प्रखंडों की बैंड प्रदर्शन में जामताड़ा जिले के जामताड़ा जिले के प्रशिक्षु पुलिस उपाध्यक्ष श्री चंद्रशेखर परिचार कामेश्वर राम ने अहम भूमिका निभाई जिला शिक्षा विभाग की तरफ से आमंत्रित किए गए टीम में मुख्य जज के रूप में पुलिस उपाधीक्षक प्रशिक्षु चंद्रशेखर ने अहम भूमिका निभाई। कस्तूरबा बालिका फतेहपुर की बैंड टीम ने अद्भुत कला का प्रदर्शन देखकर पुलिस उपाधीक्षक अपने आप को ताली बजाने से रोक नहीं पाए। परिचार कामेश्वर राम ने अपनी वक्तव्य देते हुए बताया कि परेड में आपका डिसिप्लिन सबसे अहम होता है आप परेड कर रहे हो तो अनुशासन के साथ-साथ अपने चलने की शैली पीछे मुड़ने और मूवमेंट को चेंज करने का तरीका भी आपको ध्यान रखना होता है। इसके साथ-साथ बैंड की धुन कदम से कदम मिलाकर चलना भी एक अनुशासन के दायरे में आता है ।जो बाहर से देखने वालों को दिल को लुभा जाता है। जिले के बैंड प्रदर्शन में प्रथम स्थान फतेहपुर और द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले बैंड टीम नाला को ट्रॉफी देकर सम्मानित किया गया। बीच मैदान पर जिले के प्रशिक्षु पुलिस उपाध्यक्ष ने सभी प्रखंड से आए बच्चों को मिलकर उसे बैंड का महत्व और हौसला अफजाई किया उसे अच्छा करने के लिए प्रेरित किया उन्होंने बताया कि असफलता ही सफलता की कुंजी है ।आप अगर एक बार कोई कार्य करने में असफल होते हैं तो वह सफलता का कई द्वार खोलते हैं। मौके पर पुलिस उपाधीक्षक प्रशिक्षु परिचारी कामेश्वर राम शिक्षा विभाग से जुड़े सभी पदाधिकारी एवं सभी प्रखंड से आए कस्तूरबा बालिका विद्यालय की बच्चियों और दर्शक मैदान में उपस्थित होकर लोगों हौसला को बढ़ाया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

%d