महाराष्ट्र में भी हो गया खेला, अशोक चव्हाण का कांग्रेस से इस्तीफा,

0
Whatsapp Image 2024 02 12 At 00.51.09
Spread the love

महाराष्ट्र में कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व सीएम अशोक चव्हाण ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. पिछले कुछ दिनों में यह तीसरा बड़ा नाम है जिसने पार्टी से इस्तीफा दिया. इससे पहले कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेता- बाबा सिद्दीकी और मिलिंद देवड़ा भी पार्टी छोड़ चुके हैं.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रविवार को चव्हाण ने महाराष्ट्र के एआईसीसी प्रभारी रमेश चेन्निथला से मुलाकात की थी. इसके बाद से ही उनकी पार्टी छोड़ने के कयास लगाए जा रहे थे.

महाराष्ट्र कांग्रेस के बड़े नेताओं में होती थी गिनती
दिसंबर 2008 से नवंबर 2010 तक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे चव्हाण को महाराष्ट्र में कांग्रेस के सबसे प्रभावशाली नेताओं में से एक माना जाता था. वह महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शंकरराव चव्हाण के पुत्र हैं.

उन्होंने महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव सहित पार्टी के भीतर विभिन्न पदों पर काम किया है.

राज्यसभा जाने के चर्चे
मीडिया रिपोट्स के मुताबिक अशोक चव्हाण के राज्यसभा जाने की चर्चा है. कहा जा रहा है कि बीजेपी ने इन्हीं कारणों से महाराष्ट्र में राज्यसभा के उम्मीदवारों का नाम अब तक घोषित नहीं किया है. चव्हाण के बीजेपी ज्वाइन करने के भी चर्चें हैं.

चव्हाण के कांग्रेस छोड़ने पर फडण्वीस ने कही यह बात
अशोक चव्हाण के कांग्रेस छोड़ने पर महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम और बीजेपी देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘देखिए भारतीय जनता पार्टी के साथ अलग-अलग दलों के कई बड़े नेता आना चाहते हैं. विशेष रूप से कांग्रेस के कई नेता हमारे संपर्क में हैं, क्योंकि जिस प्रकार का व्यवहार कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेताओं का रहा है, एक प्रकार से ये सारे नेता अपनी पार्टी में घुटन महसूस कर रहे थे. कांग्रेस के जो जननेता हैं उनको यह लगता है कि देश के मुख्य प्रवाह के साथ हमें काम करना चाहिए.’

‘आगे-आगे देखिए होता है क्या’
फडणवीस ने कहा, ‘देशहित की बात को भी राजनीति के चलते दरकिनार करने का काम कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व कर रहा है. वहीं दूसरी ओर पीएम मोदी जी के नेतृत्व में जिस तरह से भारत लगातार प्रगति कर रहा है. उसे देखते हुए कई नेताओं को यह लगता है कि हमें देश की मुख्यधारा में काम करना चाहिए और जनता के लिए काम करना चाहिए इसलिए कई लोग हमारे संपर्क में हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from EDPA NEWS

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading